राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना, जाने आवेदन प्रक्रिया (Rajasthan Janani Shishu Suraksha Yojana)

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना (Rajasthan Janani Shishu Suraksha Yojana)

राजस्थान सरकार द्वार राजस्थान जननी सुरक्षा योजना की शुरुआत वर्ष 2005 में की गयी थी अगर आप राजस्थान के निवासी हैं तो यह योजना आपके लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकती है इस योजना का मुख्य उद्देश्य माता एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाना है क्योंकि प्रसव के दौरान माता को कई बार उचित सहायता ना मिलने की वजह से माता या शिशु को मृत्यु सामना करना पड़ता है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस योजना के अंतर्गत गर्भवती महिला को आर्थिक सहायता दी जाने की पेशकश की जाती है जिससे परिवार पर आर्थिक बोझ कम होता है और शिशु एवं माता को किसी भी प्रकार की घटना से सुरक्षित रखा जा सके।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना(Rajasthan Janani Shishu Suraksha Yojana)

इस योजना में सरकार द्वारा ₹1400(ग्रामीण), 1000₹ (शहरी) का लाभ प्रदान किया जाएगा साथ ही प्रसव संबंधी इलाज गोली दवाइयां फ्री में उपलब्ध कराई जाएगी वैसे मे अगर आप भी इस योजना में आवेदन करने के इच्छुक हैं तो आप भी इस योजना में आसानी से आवेदन कर सकते हैं

आवेदन करने के लिए अंत तक इस आर्टिकल को जरूर पढ़े इस आर्टिकल मे आपको राजस्थान जननी सुरक्षा योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया, जरूरी दस्तावेज, पात्रता मानदंड, और पात्रता के बारे मे विस्तार से बताया जायेगा।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना क्या है

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना (RJSSY) एक सरकारी योजना है जो गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करती है। इस योजना का उद्देश्य मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करना और संस्थागत प्रसवों की संख्या में वृद्धि करना है।

RJSSY के तहत, ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को ₹1400 और शहरी क्षेत्र की महिलाओं को ₹1000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इसके अतिरिक्त, आशा कार्यकर्ताओं को ₹300 और प्रसव पूर्व ₹300 की सहायता राशि प्रदान की जाती है।

इस योजना ने राजस्थान में मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 2011 में, राजस्थान में मातृ मृत्यु दर 214 प्रति 100,000 जीवित जन्म थी, जो 2022 में घटकर 136 प्रति 100,000 जीवित जन्म हो गई है। इसी तरह, 2011 में, राजस्थान में शिशु मृत्यु दर 38 प्रति 1000 जीवित जन्म थी, जो 2022 में घटकर 24 प्रति 1000 जीवित जन्म हो गई है।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के उद्देश्य

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना (RJSSY) के उद्देश्य निम्नलिखित हैं:

  • मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करना।
  • संस्थागत प्रसवों की संख्या में वृद्धि करना।
  • गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना।
  • गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को आर्थिक सहायता प्रदान करना।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के फायदे क्या है

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना (RJSSY) के कई फायदे हैं। इनमें से कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

माता और शिशु मृत्यु दर में कमी – राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना ने राजस्थान में माता और शिशु मृत्यु दर को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 2011 में, राजस्थान में मातृ मृत्यु दर 214 प्रति 100,000 जीवित जन्म थी, जो 2022 में घटकर 136 प्रति 100,000 जीवित जन्म हो गई है। इसी तरह, 2011 में, राजस्थान में शिशु मृत्यु दर 38 प्रति 1000 जीवित जन्म थी, जो 2022 में घटकर 24 प्रति 1000 जीवित जन्म हो गई है।

संस्थागत प्रसवों की संख्या में वृद्धि – राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना ने राजस्थान में संस्थागत प्रसवों की संख्या में वृद्धि करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 2011 में, राजस्थान में केवल 58% प्रसव संस्थानों में हुए थे। यह संख्या 2022 में बढ़कर 92% हो गई है।

गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं – राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में मदद करता है। इन सेवाओं में संस्थागत प्रसव, सिजेरियन ऑपरेशन, दवाइयां और अन्य काम में आने वाली सामग्री, लैब जाँच सुविधाएं, गर्म भोजन, रक्त सुविधा और परिवहन की सुविधा शामिल हैं।

गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को आर्थिक सहायता – राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को आर्थिक सहायता प्रदान करता है। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को ₹1400 और शहरी क्षेत्र की महिलाओं को ₹1000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इसके अतिरिक्त, आशा कार्यकर्ताओं को ₹300 और प्रसव पूर्व ₹300 की सहायता राशि प्रदान की जाती है।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना एक प्रभावी योजना है जिसने राजस्थान में मातृ और शिशु स्वास्थ्य में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस योजना ने मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने में मदद की है, संस्थागत प्रसवों की संख्या में वृद्धि की है, और गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं और आर्थिक सहायता प्रदान की है।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना मे क्या क्या सुविधाये दी जाती है

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को निम्न सुविधाएं प्रदान की जाती हैं –

  • संस्थागत प्रसव
  • सिजेरियन ऑपरेशन
  • दवाइयां और अन्य उपयोग में आने वाली सामग्री
  • लैब जाँच सुविधाएं
  • गर्म भोजन
  • रक्त सुविधा
  • परिवहन की सुविधा

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना में जरूरी दस्तावेज

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना में जरूरी दस्तावेज निम्नलिखित हैं –

गर्भवती महिला का पहचान पत्र – यह पहचान पत्र आधार कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, या अन्य किसी वैध पहचान पत्र के रूप में हो सकता है।

गर्भवती महिला का आयु प्रमाण – यह प्रमाण पत्र जन्म प्रमाण पत्र, स्कूल प्रमाण पत्र, या अन्य किसी वैध आयु प्रमाण पत्र के रूप में हो सकता है।

गर्भवती महिला का आय प्रमाण – यह प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, या अन्य किसी वैध आय प्रमाण पत्र के रूप में हो सकता है।

गर्भवती महिला का निवास प्रमाण – यह प्रमाण पत्र आधार कार्ड, राशन कार्ड, या अन्य किसी वैध निवास प्रमाण पत्र के रूप में हो सकता है।

आशा कार्यकर्ता का प्रमाण पत्र – आशा कार्यकर्ता द्वारा जारी किया गया प्रमाण पत्र जिसमें गर्भवती महिला का नाम, पता, और आयु शामिल हो।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना मे पात्रता मानदंड

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को निम्न पात्रता मानदंडों को पूरा करने पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है –

  • गर्भवती महिला राजस्थान की स्थायी निवासी होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला की आयु 19 वर्ष से कम या 35 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला की गर्भावस्था 20 सप्ताह से अधिक होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला को सरकारी अस्पताल/ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र/ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव होना चाहिए।

राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना की आवेदन प्रक्रिया

राजस्थान जननी सुरक्षा योजना सरकार द्वारा गरीबों के फायदे के लिए शुरू की गई है इसमे आवेदन करने के लिए आपको नीचे दिए गए Steps फॉलो करने होंगे।

Step1 – इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको सबसे पहले योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।

Step2 – जैसे ही आप साइट पर जाते हैं आपको ऊपर एक सर्च बार दिखता है सर्च बार में आपको “राजस्थान जननी सुरक्षा योजना 2023” फॉर्म सर्च करना है ।

Step3 – अब आपको इस फॉर्म को डाउनलोड कर लेना है और उसका प्रिंट आउट निकालना है उसके बाद फॉर्म में पूछी गई डिटेल्स को भरना है।

Step4 – पूरा फॉर्म भरने के बाद और उसमें जो भी दस्तावेज मांगे गए हैं उनको अटैच करने के बाद, आपको इस फॉर्म को उसी अस्पताल में जमा करना है जहां महिला का प्रसव हुआ है।

Step5 – अंत में फॉर्म जमा करने के बाद की पूरी प्रक्रिया अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा पूरी की जाएगी और इसके लिए सभी जानकारी सही होने पर आपको राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना का फायदा दिया जाएगा।

FAQ’s

Qराजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना क्या है?
Ans.राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना राज्य सरकार की योजना है जो मातृ मृत्यु दर और शिशु मृत्यु दर को कम करने के लिए है। यह योजना गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाली महिलाओं को संस्थागत प्रसव के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करती है।

Q राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना की शुरुआत कब हुई?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना की शुरुआत 2005 में हुई थी।

Qराजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत पात्रता मानदंड क्या हैं?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत पात्रता मानदंड निम्नलिखित हैं –

  • गर्भवती महिला राजस्थान की स्थायी निवासी होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला की आयु 19 वर्ष से कम या 35 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला की गर्भावस्था 20 सप्ताह से अधिक होनी चाहिए।
  • गर्भवती महिला को सरकारी अस्पताल/ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र/ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव होना चाहिए।

Q राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना का लाभ कैसे प्राप्त करें?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए, लाभार्थी महिला को अपने क्षेत्र के जननी सुरक्षा केंद्र में संपर्क करना चाहिए। जननी सुरक्षा केंद्र में लाभार्थी महिला को प्रसवपूर्व जांच, प्रसव के दौरान देखभाल और प्रसव के बाद के देखभाल के लिए निःशुल्क सेवाएं प्रदान की जाती हैं।

Q राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं की पहचान कैसे की जाती है?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं की पहचान निम्नलिखित संस्थानों द्वारा की जाती है –

  • जननी सुरक्षा केंद्र
  • आशा सहयोगिनी
  • आंगनवाड़ी कार्यकर्ता
  • ग्राम पंचायत सचिव
  • ग्राम स्वास्थ्य अधिकारी

Q राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को कौन से दस्तावेज जमा करने होंगे?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को निम्नलिखित दस्तावेज जमा करने होंगे –

  • आधार कार्ड
  • परिवार पहचान पत्र
  • गर्भावस्था प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता विवरण

Q राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को कौन-कौन से लाभ मिलते हैं?
Ans. राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को निम्नलिखित लाभ मिलते हैं –

  • प्रसव के लिए आर्थिक सहायता
  • शिशु को 30 दिनों तक निःशुल्क चिकित्सा सुविधाएं
  • प्रसवपूर्व जांच, प्रसव के दौरान देखभाल और प्रसव के बाद के देखभाल

Q क्या राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं से कोई शुल्क लिया जाता है?
Ans. नही,राजस्थान जननी शिशु सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top